तीसरे साल भी नहीं भरेगा बाबा रामदेवरा मेला

humara bikaner
humara bikaner

पोकरण । कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते तीसरे साल लगातार रामदेवरा का भादवा मेला स्थगित कर दिया गया। पिछले दो वर्ष से लगातार बाबा रामदेव के मेले को कोरोना महामारी के चलते स्थगित किया जा रहा है। पिछले दो वर्षों से लगातार मेले को स्थगित करने के कारण दो वर्षों में व्यापारियों को 200 करोड़ का नुकसान हो चुका है। ऐसे में रामदेवरा वासियों और दुकानदारों को इस वर्ष होने वाले बाबा रामदेव के भादवा मेले से पूरी उम्मीद थी।
बाबा रामदेव के मेले को लेकर दुकानदारों ने अपनी तैयारियां भी पूर्ण कर ली थी। जिसके चलते रामदेवरा में एक बार फिर से चमक नजर आने लगी थी। लेकिन प्रशासन के फैसले के साथ ही लोगों की उम्मीदें चकनाचूर हो गई है। उपखंड अधिकारी कार्यालय पोकरण में मंगलवार को अधिकारियों की बैठक में उपखंड क्षेत्र के सभी अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में उपखंड अधिकारी राजेश विश्नोई ने बताया कि पश्चिम राजस्थान के महाकुंभ के रूप में पहचाने जाने वाले बाबा रामदेव के मेले में प्रतिवर्ष 35-40 लाख श्रद्धालु पहुंचते हैं।
8 हजार परिवार की रोजी-रोटी पर संकट, लगातार तीसरे साल मेला स्थगित होने से बढ़ी परेशानी*
रामदेवरा में बाबा रामदेव के भादवा मेले को स्थगित करने के आदेश का असर स्पष्ट रूप से रामदेवरा में निवास करने वाले लगभग 8 हजार लोगों पर पड़ेगा। रामदेवरा में लगभग 8 हजार परिवार निवास करते हैं। जिनकी आय का मात्र एक साधन बाबा रामदेव की समाधि है। यहां आने वाले श्रद्धालुओं और दर्शनार्थियों के कारण 8 हजार परिवारों के घरों में चूल्हा जलता है। कोरोना महामारी के दौर में दो बार लगातार मेला स्थगित करने के कारण रामदेवरा में लोगों की आर्थिक स्थिति पूरी तरह से लडख़ड़ा गई थी। कई लोगों को रामदेवरा से पलायन भी करना पड़ा। इस बार कोरोना का असर कम होने के कारण ग्रामीणों को बाबा रामदेव के मेले से उम्मीद थी। लेकिन प्रशासन द्वारा बाबा रामदेव के मेले को स्थगित के आदेश देने के साथ ही लोगों पर आर्थिक संकट गहराने लगा है।
पंचायतीराज चुनाव हो रहे हैं, फिर मेले पर रोक क्यों
प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा इन दिनों कोरोना की तीसरी लहर का प्रकोप बताकर बाबा रामदेव के मेले को स्थगित करने के आदेश दिए गए हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या कोरोना का असर प्रदेश में चल रहे पंचायतीराज चुनावों पर प्रभाव नहीं ड़ालता। जहां एक ओर भीड़ को देखते हुए प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा बाबा रामदेव के मेले को स्थगित करने के आदेश दिए हैं वहीं दूसरी ओर सरकार पंचायतीराज चुनावों को लेकर जोर शोर से प्रचार प्रसार कर रही है। ऐसे में सरकार की दोहरी नीतियों को लेकर आमजन में काफी रोष व्याप्त है।
बाहरी जिलों से भी पहुंचे व्यापारी हुए निराश
रामदेवरा में आयोजित होने वाले बाबा रामदेव के मेले पर रामदेवरावासियों के साथ साथ बाहरी जिलों से आकर दुकानें लगाने वाले लोग भी निर्भर है। पिछले दो वर्षों में कोरोना महामारी के चलते इन दुकानदारों का रामदेवरा में रहना भी मुश्किल हो गया था। श्रद्धालुओं के नहीं आने के कारण इन दुकानदारों पर आर्थिक मंदी का पहाड़ टूट पड़ा।
पिछले दो वर्ष से कोरोनाकाल के कारण लाखों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा। वहीं मेला आयोजित नहीं होने के कारण आर्थिक रूप से काफी परेशानी भी उठानी पड़ी। इस बार आयोजित होने वाले मेले से काफी उम्मीद थी। लेकिन वह भी स्थगित हो गया। जिसके कारण मेले को लेकर की गई तैयारी धरी की धरी रह गई

humara bikaner
Load More Related Articles
Load More By news admin
Load More In राजस्थान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हार्ट अटैक से बंदी की मौत: एनडीपीएस के एक मामले में था जेल में बंद

श्रीगंगानगर। जिले के सूरतगढ़ उपखंड की सबजेल के विचाराधीन बंदी की मंगलवार को हार्ट अटैक से …