मैंने किसी को नहीं मारा, मरने के बाद बेगुनाही साबित होगी, इतना लिखकर डॉक्टर अर्चना ने दे दी जान, आत्महत्या के मामले ने पकड़ा तूल

हमारा बीकानेर। राजस्थान के दौसा के लालसोट में महिला डॉक्टर अर्चना शर्मा के आत्महत्या मामले ने तूल पकड़ लिया है. प्रदेशभर में इसको लेकर लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं. दौसा में जहां एक और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर मेडिकल दुकानदारों ने भी आज अपनी दुकानें बंद रखी है. वहीं, सरकारी डॉक्टर में भी 2 घंटे काम का बहिष्कार किया. घटना के विरोध में आमलोग सड़कों पर उतर गए और विरोध में आक्रोश रैली निकाली. जयपुर में भी चिकित्सकों ने विरोध में जोरदार प्रदर्शन किया. स्टेच्यू सर्किल पर राउंड सर्किल में पुलिस और डॉक्टर से बीच झड़प भी सामने आई. आज झुंझुनूं में भी सेवारत चिकित्सक संघ की ओर से दो घंटे की पैन डाउन हड़ताल रखी गई. कोटा, बारां, अजमेर में भी यहीं तस्वीर दिखी. वहीं, इस मामले में घटना को लेकर चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि ये प्रशासन की लापरवाही है, कार्रवाई होगी.
आत्महत्या के मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि यह घटना बेहद दुखद है. हम सभी डॉक्टरों को भगवान का दर्जा देते हैं. हर डॉक्टर मरीज की जान बचाने के लिए अपना पूरा प्रयास करता है. परन्तु कोई भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना होते ही डॉक्टर पर आरोप लगाना न्यायोचित नहीं है. अगर इस तरह डॉक्टरों को डराया जाएगा तो वे निश्चिन्त होकर अपना काम कैसे कर पाएंगे. हम सभी को सोचना चाहिए है कि कोविड महामारी या अन्य दूसरी बीमारियों के समय अपनी जान का खतरा मोल लेकर सभी के सेवा करने वाले डॉक्टरों से ऐसा बर्ताव कैसे किया जा सकता है. इस पूरे मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है एवं दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.
क्या है पूरा मामला
आनंद अस्पताल में डिलीवरी के दौरान प्रसूता की मौत हुई थी. लोगों ने शव के साथ कई घंटों तक धरना दिया था. परिजनों ने महिला डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया था. इसके बाद अस्पताल संचालक के खिलाफ 302 में मामला दर्ज करने पर सहमति बनी थी. डॉ अर्चना शर्मा और उनके पति के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी. एफआईआर से आहत होकर डॉक्टर अर्चना शर्मा ने सुसाइड कर लिया. डॉक्टर अर्चना शर्मा ने सुसाइड नोट में खुद को निर्दोष बताया. अब संभागीय स्तर पर इस मामले की जांच की जाएगी. जयपुर संभागीय आयुक्त के नेतृत्व में कमेटी का गठन किया गया है.
जयपुर में भी चिकित्सकों ने  जोरदार प्रदर्शन किया. स्टेच्यू सर्किल पर राउंड सर्किल में खड़े  चिकित्सक और पुलिस के बीच झड़प देखने को मिली. सटेच्यू सर्किल पर चल रहा डॉक्टर्स का विरोध कुछ देर बाद गया है और डॉक्टर्स शांतिपूर्ण तरीके से वापस एसएमएस अस्पताल के लिए रवाना हो गए.
डॉक्टर अर्चना शर्मा का सुसाइड नोट
महिला डॉक्टर अर्चना शर्मा का सुसाइड नोट जो मिला है. वो हैरान कर देने वाला है. सुसाइड नोट में डॉक्चर ने लिखा हैं, कि मैं, मेरे पति और बच्चों को बहुत प्यार करती हूं. कृपया मेरे परिवार को परेशान मत करना. मैंने कोई गलती नहीं की है. मैंने किसी को नहीं मारा. मेरे मरने के बाद मेरी बेगुनाही साबित होगी. Donot harass innocent doctor plz
love u…
please मेरे बच्चों को मां की कमी महसूस नहीं होने देना.

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In राजस्थान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बीकानेर- गाड़ी पलटने से छह घायल में बच्ची ने इलाज के दौरान तोड़ा दम

हमारा बीकानेर। बीकानेर के श्रीडूंगरगढ़ में सड़क हादसे में घायल एक बच्ची की मौत हो गई। महज छह…